2019-06-14
A | A- | A+    

Business Wire


आईबीएसए और अलमा ने डब्ल्यूडीसी 2019 में रणनीतिक साझेदारी की शुरुआत की घोषणा की

IBSA (2:23PM) 

Business Wire India
  उनके करार का आधार ऐसथेटिक मेडिसिन के प्रति एक नए रुख को बढ़ावा देना है और इसे एक ऐसे मार्ग के रूप में समझा जाना है जो लोगों के स्वस्थ रहने के प्रति उन्मुख है। अनुमान है कि ऐसथेटिक मेडिसिन (दवाइयों) का बाजार अगले पांच वर्षों में $26.5 बिलियन का होगा।  इंजेक्शन योग्य प्रक्रियाओं की मांग बढ़ रही है और यह सर्जिकल प्रक्रियाओं के लिए हानिकारक है (+ 25% 2020 तक)
मिलान में 9 से 15 जून तक आयोजित 24वें डरमैटोलॉजी वर्ल्ड कांग्रेस में हायलूरॉनिक एसिड उत्पादों के बाजार में अग्रणी आईबीएसए और सर्जरी, ऐसथेटिक मेडिसिन तथा सौंदर्य के लिए ऊर्जा आधारित समाधानों के क्षेत्र में अग्रणी अलमा ने रणनीतिक साझेदारी के करार की घोषणा की है। इसके जरिए इनका लक्ष्य ऐसथेटिक मेडिसिन के प्रति एक नए रुख को बढ़ावा देना है जिसके बारे में अब यह नहीं सोचा जाता है कि यह एक शॉट वाले हस्तक्षेप की श्रृंखला है। पर एक ऐसे मार्ग के रूप में जिसका लक्ष्य उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में शामिल टिश्यू को दुरुस्त रखना है।
 
साझेदारी प्रस्तुति आयोजन के सम्मानित अतिथि डब्ल्यूसीडी 2019 की प्रेसिडेंट और यूनिवर्सिटी ऑफ मोडेना एंड रेग्गियो इमिलिया के फैकल्टी ऑफ मेडिसिन एंड सर्जरी की निदेशक प्रो गिवोवानी पेलासानी ने कहा, "अनुमान है कि दुनिया भर में ऐसथेटिक मेडिसिन का बाजार 2024 तक करीब $26.5 बिलियन का हो जाएगा जो 2016 में $10.1 बिलियन  का था। गैर सर्जिकल प्रक्रिया खासकर इंजेक्शन योग्य उत्पादों की मांग 33 प्रतिशत बढ़ी है। हेल्थकेयर के क्षेत्र में काम करने वाले पेशेवरों का अनुमान है कि अगले वर्ष के दौरान यह मांग 25 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ जाएगी। आईबीएसए और अलमा के बीच साझेदारी इन नई मांगों के प्रति दिलचस्प प्रतिक्रिया है खासकर इसलिए कि इसमें आईबीएसए के हायलूरॉनिक एसिड आधारित समाधान को अलमा के ऊर्जा आधारित समाधान के साथ शामिल किया गया है। इस नए रुख की पुष्टि करने के लिए एक चिकित्सीय अध्ययन की शुरुआत सितंबर में यूनिवर्सिटी ऑफ मोडेना एंड रेग्गियो इमिलिया में होगी।"
 
आईबीएसए और अलमा अपने संबंधित क्षेत्रों में दुनिया भर में अग्रणी हैं और समय के साथ डर्मो ऐसथेटिक्स के क्षेत्र में नई पीढ़ी की टेकनालॉजी का विकास किया है जो अब सेल रीजेनरेशन प्रक्रिया के लिए सहक्रिया की पेशकश कर सकता है। सघन अनुसंधान और विकास परिचालनों, पेटेंट कराई हुई टेक्नालॉजी के उपयोग और आधुनिक उत्पादन प्रक्रियाओं की बदौलत, आईबीएसए "अल्ट्राप्योर” हायलूरॉनिक एसिड का उपयोग करता है जिसे उच्च स्तर की शुद्धता के लिए जाना जाता है। इसके भिन्न फॉर्मूलेशन हैं जो हायलूरॉनिक एसिड के उपयोग पर आधारित हैं और इसका भिन्न परमाणु वजन होता है जो आस-पास के टिश्यू में अलग कार्रवाई करता है।
 
उत्पादन के अनुभव और हायलूरॉनिक एसिड के उपयोग की बदौलत आईबीएसए ने त्वचा के एक नए उपचार का विकास किया है जिसका बाजार में एक महत्वपूर्ण बिन्दु का संकेत करता है। यह समाधान बायो-मॉडलिंग की पेशकश करता है जो इंजेक्टेबल्स के बाजार में एक नई अवधारणा है। आईबीएसए फार्मास्यूटिसी इटैलिया की लाइसेंसिंग और बीयू डर्मोऐसथेटिक डायरेक्टर तानिया पिराजिनी बताती हैं, “यह डर्मल फिलर नहीं है ना ही त्वचा को नई ताजगी देने वाला है बल्कि यह एक इंजेक्ट करने योग्य उत्पाद है जो स्टैबलाइज्ड हायलूरॉनिक एसिड पर आधारित है जो हाइड्रेशन, लचीलेपन और त्वचा के टोन को बहाल कर सकता है।” वे कहती हैं, “ऐसथेटिक मेडिसिन के प्रति एक नए रुख की साझेदारी से अलमा लेजर्स के साथ भागीदारी को एक ऐसे मार्ग के रूप में देखा जाना चाहिए जो रोकथाम और उपचार के लिए है तथा मरीज के साथ वर्षों रहता है। हमारा जो साझा दर्शन है वह एख संपूर्ण गैर सर्जिकल रुख को बढ़ावा देना जो भिन्न रीजेनरेटिव विधियों के एकीकरण पर आधारित हो और जिसका मकसद लोगों के संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर करना हो। ऐसा करने के लिए आईबीएसए और अलमा हेल्थकेयर पेशेवरों को अपनी अग्रणी टेक्नालॉजी मुहैया कराते हैं।"
 
सर्जरी, ऐसथेटिक मेडिसिन और सौंदर्य के लिए ऊर्जा आधारित अभिनव समाधानों के विकास की बदौलत अलमा अब इस क्षेत्र में शिखर की दुनिया भर की पांच कंपनियों में से एक है। और चीन में पहली। "कंबाइंड थेरापीज" में उपयोग किए जा सकने वाले लेजर उपकरण जो त्वचा के उपचार के नतीजे बेहतर कर सकें, के विकास के लिए कंपनी ने नई पीढ़ी की टेक्नालॉजी पर अपनी सफलता तैयार की है। ऊर्जा आधारित उपचार का उपयोग त्वचा की बृहतर ताजगी वाले उन प्रोग्राम्स के लिए भी किया जा सकता है जिसमें इंटेक्ट किए जाने योग्य उत्पादों का भी उपयोग शामिल है। इयाल बेन डेविड, वीपी ग्लोबल सेल्स, अलमा लेजर्स इंटरनेशनल ने इसे इस तरह स्पष्ट किया और कहा, “ऐसथेटिक मेडिसिन में हाल की अंतरराष्ट्रीय प्रवृत्तियों से रीजेनरेटिव मेडिसिन के विषय पर बढ़ते फोकस तथा झुकाव का पता चलता है जिसका मकसद एक "स्वाभाविक” अंतिम परिणाम है और यह व्यैक्तिक दैहिक खासियत हो सकती है। ऊर्जा आधारित कई उपकरण के उपचार त्वचा की ताजगी प्रोग्राम के भाग हैं जिसमें आमतौर पर हायलूरॉनिक एसिड आधारित इंजेक्टिबल्स उपयोग किया जाता है। इन उपचारों का इस्तेमाल मानकीकृत प्रक्रिया के अनुसार किया जाता है और मिला-जुला उपयोग बेहतर तथा तात्कालिक नतीजा देता है और अतिरिक्त लाभ यह कि मिनिमली इनवैसिव है तथा मरीज के लिए बहुत तकलीफदेह नहीं है। इस प्रभावी सहक्रिया में ही और ऐसथेटिक मेडिसिन के प्रति नए रुख को साझा करने में अलमा और एबीएसए के बीच साझेदारी का मूल्य हासिल होता है।"
 
यूनिवर्सिटी ऑफ मोडेना एंड रेग्गियो इमिलिया के डर्मैटोलॉजी कांपलेक्स डिपार्टमेंट में प्रोफेसर पेलासानी द्वारा सितंबर 2019 में किए जाने वाले नए चिकित्सीय अध्ययन का लक्ष्य आईबीएसए और अलमा टेक्नालॉजी का मिला-जुला उपयोग करने पर उसकी कुशलता और सुरक्षा की वैज्ञानिक तौर पर पुष्टि करना होगा और इस तरह, हेल्थकेयर पेशेवरों को मानकीकृत एमप्लायमेंट प्रोटोकोल की पेशकश की जाए।
 
आईबीएसए
 
आईबीएसए की स्थापना लुगानो में 1945 में हुई थी और एक अनुभवी तथा निर्णायक क्षण में जब मौजूदा प्रबंधन ने इस संपति का अधिग्रहण किया और इसके दर्शन तथा रणनीति को पुनर्पारिभाषित किया। कंपनी का तेजी से विकास हुआ है और अंतरराष्ट्रीय बाजार में विस्तार हुआ है। स्पेशल टेक्नालॉजी के विकास पर फोकस करते हुए आज यह अपने उत्पाद के साथ 5 महादेशों के 80 देशों में मौजूद है। इस समय आईबीएसए के पास 65 एक्सक्लूसिव रजिस्टर्ड पेटेंट हैं, कई अन्य का विकास चल रहा है। इस समूह का अनुसंधान और विकास परिचालन नई पीढ़ी की टेक्नालॉजी और अभिनव, किफायती डिलीवरी सिस्टम के विकास पर पर केंद्रित है जो लोगों के जीवन की गुणवत्ता बेहतर करने के लिए दवाइयों के क्षेत्र में महत्वपूर्ण अधूरी आवश्यकताओं की पूर्ति कर सकता है।
 
आईबीएसए 9 मुख्य थेराप्यूटिक क्षेत्रों में काम करती है। ये हैं : कार्डियोमेटाबोलिक, डर्मैटोलॉजी, डर्मोऐसथेटिक्स, एंडोक्रिनोलॉजी, रीपोडक्टिव मेडिसिन, ऑस्टियोआर्टिकुलर, दर्द और सूजन, रेसपायरेट्री और यूरोलॉजी।
 
अलमा
 
मेडिकल और ऐसतेटिक इस्तेमाल के लिए लेजर, ऑप्टिकल, रेडियो फ्रीक्वेंसी और अल्ट्रा साउंड टेक्नालॉजी पर आधारित समाधान के क्षेत्र में अलमा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अग्रणी है। अलमा का वैज्ञानिक प्रगति में दृढ़ विश्वास है और जब इसकी स्थापना हुई थी तबसे अनुसंधान और विकास कंपनी के डीएनए में रहा है। और कंपनी ने अपनी सफलता इसी पर बनाई है। अनुसंधान और विकास में किए गए महत्वपूर्ण निवेश का ही असर है कि अलमा अब अपने पेशेवरों को नई पीढ़ी की टेक्नालॉजी से डिजाइन कर सकता है, मुहैया करा सकता है और तैयार कर सकता है। और ये ऐसे हैं कि दुनिया भर के मरीजों को सुरक्षा और गुणवत्ता की गारंटी देते हैं। कारोबार के तकरीबन 20 वर्षों में अलमा उत्पाद और टेक्नालॉजी दुनिया भर में पहचाने जाने वाले ब्रांड बन गए हैं और अब दुनिया भर में स्वर्ण मानक माने जाते हैं। अलमा इस समय ऐसथेटिक दवाइयों (मुंहासे का इलाज, त्वचा को ताजगी देना, फ्रैक्शनल रीसर्फेसिंग, रंजित, संवहनी क्षति के उपचार, कमी, टैटू हटाना, हाइपर हाइड्रोसिस आदि के निर्णायक उपचार) वस्कुलर सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, गायनोकोलॉजिकल सर्जरी और कान, नाक व गले की सर्जरी के लिए कई समाधानों की पेशकश करता है।
 
2013 में चीन के एक अग्रणी हेल्थकेयर समूह, फोसुन फार्मा ने होल्डिंग कंपनी, "सिसराम मेडिकल" के निगमन के जरिए अलमा का अधिग्रहण कर लिया। 2017 में सिसराम मेडिकल हांग कांग स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने वाला पहला इजराइली कारोबार बना।
 
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : https://www.businesswire.com/news/home/20190612005374/en/   संपर्क करें :
आईबीएसए प्रेस ऑफिस – हेरीटेज हाउस रेपुटेशन आर्किटेक्ट्स
गियुलिया रियेल giulia.reale@heritage-house.eu
मैसिमो कैसारिको massimo.casarico@heritage-house.eu
  घोषणा (अस्वीकरण): इस घोषणा की मूलस्रोत भाषा का यह आधिकारिक, अधिकृत रूपांतर है। अनुवाद सिर्फ सुविधा के लिए मुहैया कराए जाते हैं और उनका स्रोत भाषा के आलेख से संदर्भ लिया जा सकता है और यह आलेख का एकमात्र रूप है जिसका कानूनी प्रभाव हो सकता है।
 

Italy, Milan