2018-09-11
A | A- | A+    

Business Wire


एएचएफ ने भारत में एलजीबीटीक्यू अधिकारों पर जीत की खुशी जताई !

AIDS Healthcare Foundation (10:43AM) 

Business Wire India

एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन (एएचएफ AHF) भारत के सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का स्वागत करता है जिसके जरिए भारतीय दंड संहिता की धारा 377 को खत्म कर दिया गया है। यह धारा दो पुरुष वयस्कों के बीच सहमति से सेक्स को अपराध बनाती थी। यह महत्वपूर्ण निर्णय नागरिक समाज द्वारा दशकों के मुश्किल प्रयास के बाद आया है और मानवाधिकार तथा एलजीबीटीक्यू समाज के लिए एख बड़ा कदम है।
 
एएचएफ इंडिया केयर्स कंट्री प्रोग्राम के डायरेक्टर डॉ. वी सैम प्रसाद ने कहा, “भारत में हेल्थकेयर के क्षेत्र में पहुंच की दिशा में कलंक और भेदभाव भारी बाधा हैं। खासकर उन पुरुषों के मामले में जो पुरुषों और ट्रांसजेंडर (उभयलिंगी) के साथ सेक्स करते हैं। एचआईवी/एड्स के क्षेत्र में सुविज्ञता वाले चिकित्सक के रूप में मैं जानता हूं कि धारा 377 को खत्म किए जाने से कई जानें बच जाएंगी क्योंकि जो लोग समझते थे कि कानून के कारण हाशिए पर कर दिए गए हैं वे अब आवश्यक सहायता मांग सकेंगे। या अब यह उनका अधिकार होगा।” उन्होंने आगे कहा, “मैं गर्व महसूस करता हूं कि एएचएफ और हमारे साझेदारों को यह मौका मिला कि वे इस महत्वपूर्ण जीत में हमारी ऊर्जा और प्रयास का योगदान कर सके। इससे जुड़े कलंक को खत्म करने के लिए अभी भी काफी कुछ किया जाना है पर भारत में मानवाधिकार के लिए यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि है।”
 
एएचएफ के प्रेसिडेंट माइकल वेइनसटिन ने कहा, “एलजीबीटीक्यू अधिकारों के लिए यह कई वर्षों में सबसे महत्वपूर्ण जीत है।” उन्होंने आगे कहा, “दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र – भारत में ऐसा कानून होना इसकी ख्याति पर बड़ा धब्बा था। इसलिए, इस निर्णय में खुशी मनाने के लिए बहुत कुछ है और मानवाधिकारों की इस महत्वपूर्ण जीत के लिए किसी भी तरह का योगदान करने वालों को मेरा शुक्रिया।”
 
एएचएफ इस समय भारत में 2,074 ग्राहकों को एंटीरेट्रोवायरल उपचार और सेवाएं मुहैया करा रहा है। इनमें बड़ी संख्या में ऐसे पुरुष भी हैं जो पुरुषों के साथ (एमएसएम) और ट्रांसजेंडर लोगों के साथ सेक्स करते हैं। एएचएफ इंडिया केयर्स लगभग 15 साल से सफल एडवोकेसी के प्रयासों के क्षेत्र में अग्रणी रहा है। इसमें समुदाय आधारित रैपिड एचआईवी टेस्टिंग मॉडल को राष्ट्रीय स्तर पर अपनाना, उस समय के पहले “कंडोम बैंक” की शुरुआत तथा पेटेंट विरोध और ड्रग प्राइसिंग इनीशिएटिव में भाग लेना शामिल है। कलंक की समस्या से निपटने और एलजीबीटीक्यू समाज के सशक्तिकरण के लिए एएचएफ ने एमएसएम के लिए सुरक्षित समाज के रूप में 2013 में इंपल्स इंडिया की शुरुआत की जिसके केंद्र में यौन स्वास्थ्य और स्वस्थ रहना शामिल था।
 
इस संघर्ष में भारत और दुनिया के पहले गे सदस्य शाही परिवार के राजकुमार मानवेन्द्र सिंह गोहिल शामिल रहे हैं जो गुजरात के राजपिपला स्टेट के हैं (Manvendra Singh Gohil of Rajpipla in Gujarat state)। 2006 में खुल कर सामने आने के बाद से प्रिंस ने गे अधिकारों और एचआईवी रोकथाम के लिए लड़ाइयां लड़ी हैं। इसमें उन्हें राजनीतिक दलों, शिक्षा संस्थाओं, मीडिया, वकीलों और चिकित्सा पेशेवरों का साथ मिला है।
 
प्रिंस मानवेन्द्र (Prince Manvendra) न कहा, “एएचएफ कम्युनिटी सदस्य के रूप में मैं जो नेटवर्किंग कर पाया हूं उससे एलजीबीटीक्यूए के अधिकारों के लिए लड़ने और उसके पक्ष में बोलने की ताकत बढ़ी है। भारतीय दंड संहिता की धारा 377 मानवता और पाखंड के बीच विवाद था तथा आखिरकार हम जीते। पर अभी बहुत कुछ बाकी है। एलजीबीटीक्यूए के अधिकार बुनियादी मानवाधिकार हैं जो सिर्फ अदालत के कमरे में नहीं जीते जा सकते हैं बल्कि हमें उन लोगों के दिल और दिमाग में जीतना है जिनके साथ हम रहते हैं।” (नोट : प्रिंस के कोट उनके पुराने आलेख (article) से तैयार किए गए हैं जो उन्होंने पहले लिखे थे।)
 
एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन (एएचएफ), सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय एड्स संगठन है। इस समय यह दुनिया भर के 41 देशों यथा अमेरिका, अफ्रीका, लैटिन अमेरिका / कैरीबियन, एशिया / प्रशांत क्षेत्र और पूर्वी यूरोप में 984,000 लोगों को चिकित्सीय देखभाल और / या सेवाएं मुहैया कराता है। एएचएफ के बारे में ज्यादा जानने के लिए कृपया हमारे वेबसलाइट पर आएं : www.aidshealth.org, फेसबक हमें यहां देखें : www.facebook.com/aidshealth और ट्वीटर पर हमें : @aidshealthcare पर तथा इंस्टाग्राम पर: @aidshealthcare पर फॉलों करें।
 
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : https://www.businesswire.com/news/home/20180908005012/en/
 
संपर्क :
एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन इंडिया
डॉ. वी सैम प्रसाद
कंट्री प्रोग्राम मैनेजर, एएचएफ इंडिया केयर्स
मोब : +91 8467889989, +91 9821100106
vsam.prasad@aidshealth.org
या
यूएसए
गेड केनसलिया
एएचएफ के लिए सीनियर डायरेक्टर, कम्युनिकेशंस
+1.323.791.5526
gedk@aidshealth.org
या
मारिन ऑस्टिन
एएचएफ डायरेक्टर ऑफ कम्युनिकेशंस
323.333.7754.
marin.austin@aidshealth.org

घोषणा (अस्वीकरण): इस घोषणा की मूलस्रोत भाषा का यह आधिकारिक, अधिकृत रूपांतर है। अनुवाद सिर्फ सुविधा के लिए मुहैया कराए जाते हैं और उनका स्रोत भाषा के आलेख से संदर्भ लिया जा सकता है और यह आलेख का एकमात्र रूप है जिसका कानूनी प्रभाव हो सकता है।​

India, Maharashtra, Mumbai