2017-04-25
A | A- | A+    

Business Wire


आंध्रप्रदेश अपने अधिवासियों को गंभीर मौसम से बचाने के लिए अर्थ नेटवर्क्स पर निर्भर करता है

Earth Networks (1:15PM) 

Business Wire India

अर्थ नेटवर्क्स (Earth Networks) ने आज एलान किया कि भारत के आठवें सबसे बड़े राज्य आंध्र प्रदेश ने एक नए राज्यव्यापी मौसम नेटवर्क को शक्ति देने के लिए अर्थ नेटवर्क्स के टोटल लाइटिंग नेटवर्क (Earth Networks Total Lightning Network®) समाधान का चुनाव किया है जो खराब मौसम के लिए मशहूर इस क्षेत्र के नागरिकों की रक्षा करेगा। इस संबंध में करार पर दस्तखत आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री एन चंद्रबाबू नायडू की उपस्थिति में हुए। इसकी सेवा और टेक्नालॉजी की समीक्षा विशेषज्ञों की एक समिति ने की और इसी ने इसे मंजूरी दी है। इस समिति में एमवी शेषागिरि बाबू, बीवी श्रीकांत, पीवीआर मूर्ति, ए कानूनगो और प्रोफेसर एस वरदराजन थे।

देश भर में अकेले 2016 के दौरान खराब मौसम की स्थितियों के कारण 1600 से ज्यादा नागरिकों की मौत हुई है। मौसम से जुड़ी मौतों में प्रति सौ सबसे ज्यादा मौतें बाढ़ तथा बिजली गिरने से हुई। आंध्र प्रदेश भारत का पहला राज्य है जिसने अर्थ नेटवर्क्स की लाइटनिंग डीटेक्शन की पूरी रेंज का उपयोग किया है। इनमें उन्नत लाइटनिंग डीटेक्शन, लाइटनिंग सेंसर (पूरे राज्यव्यापी भौगोलिक कवरेज के लिए) और खतरनाक गरजवाले तूफान से अलर्ट शामिल हैं।

दुनिया भर के 90 से ज्यादा देशों में 1,500 से ज्यादा सेंसर्स के साथ अर्थ नेटवर्क्स के टोटल लाइटनिंग नेटवर्क सबसे सघन और प्रौद्योगिकी के लिहाज से उन्नत लाइटनिंग नेटवर्क हैं। यह बादल में भी बिजली गरजने की निगरानी कर सकता है और मौसम से संबंधित अन्य गंभीर स्थितियों जैसे भारी बारिश, तेजी आंधी आदि की चेतावनी दे सकता है। इस तरह यह दूसरे लाइटनिंग नेटवर्क से अलग है। नेटवर्क के लाइटनिंग डाटा आंधी-तूफान की जगह, कवरेज, सघनता और झुकावों के वास्तविक समय की पहचान के लिए बुनियाद हैं। 
 
आंध्र प्रदेश की सरकार और आपदा प्रतिक्रिया एजेंसियां भी अर्थनेटवर्क के उत्पाद के जोड़े तक पहुंच हासिल करते हैं राज्य को लोगों की जान बचाने और खराब मौसम के कारण होने वाले संपत्ति के नुकसान को कम रखने में सहायता करते हैं। इसके साथ ही, उड्डयन, यूटिलिटीज, कृषि, शिक्षा और बीमा क्षेत्रों की भी सहायता की जाती है ताकि महत्वपूर्ण संरचना की रक्षा की जा सके।

स्फेरिक मैप्स (Sferic Maps) – उपयोगकर्ताओं के लिए वास्तविक समय में गठजोड़ क्षमता मुहैया कराता है ताकि उपयोगकर्ताओं के लिए मौसम से संबंधित बुद्धिमान निर्णय कर सके और मौसम से संबंधित गंभीर स्थितियों में प्रतिक्रिया की तैयारी के लिए समय बढ़ाया जा सके। उपयोगकर्ता आईओएस और एनड्रायड उपकरणों के लिए खासतौर से तैयार किए गए अलर्ट प्राप्त कर सकते हैं। 
पल्सरैड (PulseRad) – एक उन्नत रडार विकल्प डिलीवर करता है जो कनवेक्टिव मौसम से संबंधित घटना का एक अंतरसक्रिय नक्शा मुहैया करा सकता है और यह सबसे दूर-दराज के भौगोलिक क्षेत्रों के लिए संभव है जहां परंपरागत रडार की तैनाती, परिचालन और रख-रखाव मुश्किलों से भरा है। 

अर्थ नेटवर्क्स के एसवीपी, ग्लोबल सेल्स जिम एंडरसन ने कहा, “हम आंध्रप्रदेश सरकार की प्रशंसा करते हैं कि यह पहला भारतीय राज्य है जिसने बिजली गिरने का पता लगाने और अलर्ट करने के लिए उन्नत व्यवस्था की अहम भूमिका को महसूस किया है। इससे लोगों की जान बचाई जा सकती है और अहम संरचना की सुरक्षा संभव है। यह एक ऐसा रुख है जिसके बारे में हमारा मानना है कि इस लीड का अनुसरण करना भारत के अन्य 28 राज्यों के लिए भी लाभप्रद हो सकता है।” उन्होंने आगे कहा, “सरकार और विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के साथ गठजोड़ करके अच्छे-खासे मौके तैयार होते हैं और आगे बढ़ते हुए खराब मौसम की भविष्यवाणी मजबूत होती है।”

एमवी शेषगिरि बाबू, आईएएस (कमिश्नर) ने कहा, “चक्रवात, बिजली गिरना, बाढ़ आना और अन्य किस्म के खराब मौसम के कारण आंध्र प्रदेश में लोगों के जानमाल का भारी संकट रहता है। इस नई टेक्नालॉजी से हम अपने नागरिकों को समय रहते चेतावनी दे सकेंगे और खराब मौसम के बारे में विस्तार में आवश्यक सूचना दे सकेंगे ताकि जान बचाई जा सके और संपत्ति का नुकसान न्यूनतम हो।”

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में वैज्ञानिक, बीवी श्रीकांत ने आगे कहा, “मौसम से संबंधित सभी विकल्पों पर अच्छी तरह विचार करने के बाद अर्थ नेटवर्क स्पष्ट पसंद थी जिसकी लाइटनिंग का पता लगाने की क्षमता उत्कृष्ट थी। लचीले सेवा विकल्प और उत्कृष्ट सपोर्ट थे। हम उन सुधारों का इंतजार कर रहे हैं जो इस सेवा से आपात स्थिति के लिए तैयार रहने के हमारे प्रयासों में आएगा।”

आंध्र प्रदेश स्टेट कौंसिल ऑफ हायर एजुकेशन (एपीएससीएचई) के सचिव प्रोफेसर वरदराजन ने कहा, “बेहद आवश्यक सुरक्षा सूचना मुहैया कराने के साथ-साथ नया नेटवर्क विश्वविद्यालयों, स्कूलों के लिए डाटा का एक महत्वपूर्ण स्रोत होगा जो हमारे छात्रों की सहायता अनुसंधान परियोजना से करेगा। तथा इनमें विज्ञान, टेक्नालॉजी, इंजीनियरिंग, गणित की अवधारणा का विकास होगा। इसके लिए इस क्षेत्र से मौसम से जुड़े वास्तविक आंकड़ों का उपयोग किया जाएगा।”

अर्थ नेटवर्क्स टोटल लाइटनिंग क्षमताओं के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए https://www.earthnetworks.com/lightning/ पर आइए।

अर्थ नेटवर्क्स के बारे में

अर्थनेटवर्क्स 20 साल से ज्यादा समय से इस ग्रह की नब्ज का ख्याल रख रहा है (Taking the Pulse of the Planet®)। हम संस्थाओं को वित्तीय, परिचालन और मानव जोखिम कम करने में सहायता करते हैं और इसके लिए पर्यावरणीय जानकारी मुहैया कराते हैं जो दुनिया के सबसे बड़े हाइपरलोकल मौसम नेटवर्क से होती है। स्कूल, हवाई अड्डे, खिलाड़ी टीमें, यूटिलिटीज और सरकारी एजेंसियां जान-माल की रक्षा और मौसम से संबंधित मुश्किलों की तैयारी तथा परिचालनों को सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए हमारे अर्ली वार्निंग सोल्यूशंस पर निर्भर करती हैं। सभी उद्योगों के तहत कंपनियां हमारे मौसम डाटा का उपयोग जोखिम प्रबंध, कारोबारी निरंतरता और परिसंपत्ति सुरक्षा से संबंधित निर्णयों को ऑटोमेट करने के लिए करती हैं।
  
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170423005013/en/
 
संपर्क :
ब्लूटेक्स्ट पीआर फॉर अर्थ नेटवर्क्स
ब्रायन लसटिग, +1 202.469.3608
brian@bluetext.com

India, Andhra Pradesh, Vijayawada