2017-03-07
A | A- | A+    

Business Wire


कोलकाता में आईईईई 5जी समिट, 5जी की शुरुआत से कनेक्टिंग दि अनकनेक्टेड की संभावनाओं को जानने के लिए 'डिजिटल इंडिया' पर नज़र डालेगा

IEEE (7:02PM) 

Business Wire India

मानवता के लिए प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित दुनिया के सबसे बड़े तकनीकी पेशेवर संगठन आईईईई (IEEE) ने आज आगामी आईईईई 5जी सम्मलेन की घोषणा की। इसका आयोजन 17-18 मार्च 2017 को कोलकाता, भारत (upcoming IEEE 5G Summit, 17-18 March 2017 in Kolkata, India) में किया जाएगा। आईईईई 5जी सम्मलेन और अन्य गतिविधियों के ज़रिए आईईईई 5जी पहल (IEEE 5G Initiative) "टू कनेक्ट दि अनकनेक्टेड" (जो कनेक्टेड नहीं हैं उन्हें कनेक्ट करने) के लिए और अगली पीढ़ी की बेतार नेटवर्क टेक्नालॉजी के ज़रिए नवीनता लाने के लिए है। उम्मीद की जाती है कि इससे डाटा स्पीड काफी बढ़ जाएगी और अल्ट्रा लो लैटेन्सी टाइम्स तैयार होगा, कई और उपकरणों के कनेक्शन को सपोर्ट मिलेगा तथा नेटवर्क एलीमेंट की ऊर्जा कार्यकुशलता बढ़ेगी।

कोलकाता के होटल सेनसेस, सेक्टर पांच, साल्ट लेक में आईईईई 5जी सम्मलेन में उद्योग, शिक्षा क्षेत्र और सरकार के विशेषज्ञ एक मंच पर आएंगे तथा यह विचारों के आदान प्रदान तथा मेल के लिए एक संगम स्थल होगा। सम्मेलन का थीम है, “डिजिटल इंडिया” और इसमें 5जी द्वारा पेश की जाने वाली चुनौतियों तथा मौकों को जानने समझने में सहायता मिलेगी तथा इसका भारतीय संदर्भ भी समझ में आएगा। यह कोलकाता सम्मेलन के जनर चेयर आईटीआई साहा मिश्रा ने सुनिश्चित किया है जो आईईईई कम्युनिकेशंस सोसाइटी कोलकाता चैप्टर के चेयरपर्सन और जादवपुर यूनिवर्सिटी, कोलकाता में इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग के प्रोफेसर हैं। आईईईई 5जी सम्मेलन की पहल में को-चेयर, आईईईई कम्युनिकेशंस सोसाइटी के विशिष्ट लेक्चरर और लीड मेम्बर, एटीएंडटी के तकनीकी कर्मचारी आशुतोष दत्ता आईईईई 5जी की पहल पर बोलेंगे। वे अपनी विशिष्ट लेक्चर श्रृंखला चर्चा (Distinguished Lecture series talk) जारी रखेंगे। उनका विषय है, भारत के कई शहरों में सिक्यूरिटी चैलेंजेस एंड ऑपरचुनिटीज़ इन एसडीएन / एनएफवी एंड 5जी नेटवर्क्स यानी 5जी नेटवर्क्स और एसडीएन / एनएफवी में सुरक्षा संबंधी चुनौतियां और मौके।

आईईईई 5जी पहल के को चेयर गरहार्ड फेट्टवेइस, सीनियर रिसर्च साइंटिस्ट, अंतरराष्ट्रीय कंप्यूटर साइंस इंस्टीट्यूट और वोडाफोन चेयर प्रोफेसर टीयू ड्रेसडेन ने कहा, “एक साइज़ सब में फिट होता है वाला समाधान दुनिया की लगभग आधी आबादी, जो बगैर ब्रॉडबैंड इंटरनेट के बिना रह गए हैं, को कनेक्ट करने का लक्ष्य नहीं हासिल करेगी।” उन्होंने आगे कहा, “इसके लिए बाजार-दर बाजार विवरण और बारीकियों का ख्याल रखना होगा और इन्हें समझना होगा और स्थानीय आवश्यकताओं के अनुकूल रचनात्मक समाधान अपनाने होंगे। आईईईई 5जी सम्मेलन अंतरराष्ट्रीय चर्चा को स्थानीय बाजार में ले जाता है और स्थानीय उपक्रम के ज्ञान का उपयोग करता है।”

आईईईई के सदस्य और डीन ऑफ फैकल्टी अफेयर्स तथा प्रोफेसर, आईआईटी बांबे, अभय करंदीकर ने कहा, “भारत में और अन्य क्षेत्रों में जहां आबादी अनकनेक्टेड है, 'फ्रुगल 5जी' अवधारणा एक किफायती और कार्यकुशल तरीका है जिससे अनकनेक्टेड को तेजी से कनेक्ट किया जा सकता है और इसके लिए 5जी के एक रूपांतर की शुरुआत किफायती ढंग से करनी होती है और यह आईपी आधारित नेटवर्क आर्किटेक्चर के ज़रिए हो सकता है जिसमें डायनैमिक स्पेक्ट्रम मैनेजमेंट को आगे बढ़ाया जाता है। उन्होंने आगे कहा, “फ्रुगल 5जी से अगली पीढ़ी के दूरसंचार को एक प्रभावी, इंटरऑपरेबल और मानकीकृत ढंग से सक्रिय करने में सहायता मिलेगी और इससे ज्यादा नवीनता संभव होगी।”

आईईईई स्टैंडर्ड्स एसोसिएशन के प्रबंध निदेशक कौनसटैनटिनोस कराचलिओस ने कहा, “मानवता को 5जी से संभावित फायदा ऐतिहासिक हो सकता है।” उन्होंने कहा, “दुनिया के कुछ क्षेत्रों में 3जी या 4जी टेक्नालॉजी में छलांग लगाने और अनकनेक्टेड समाज को देर-सबेर इनक्लूसिव 5जी के क्रांतिकारी लाभ हासिल करने के मौके हो सकते हैं। आईईईई 5जी इनीशिएटिव इस कार्य में महत्वपूर्ण है और यह इस स्थिति में है कि  दुनिया भर के उद्योग, सरकार और शिक्षा क्षेत्र के लोगों को 5जी से जुड़ी चुनौतियों को दूर करने और इसकी अंतरराष्ट्रीय शुरुआत की बुनियाद रखने में लगा दिया जाए।”

आईईईईजी 5जी सम्मेलन (IEEE 5G Summits) का आयोजन दुनिया के कई क्षेत्रों में हो चुका है। कोलकाता सम्मेलन में छात्र, अनुसंधानकर्ता और प्रौद्योगिकी का विकास करने वाले अनुसंधान गतिविधियों के बारे में ज्यादा जान पाएंगे जिसकी शुरुआत दुनिया भर आईईईई के ज़रिए की गई है और यह 5जी मोबाइल टेक्नालॉजी के विकास के लिए है। कोलकाता आयोजन आईईईई कम्युनिकेशंस सोसाइटी, कोलकाता शाखा, आईईईई सर्किट्स एंड सिस्टम्स सोसाइटी कोलकाता शाखा और ग्लोबल आईसीटी स्टैंडर्डाइजेशन फोरम फॉर इंडिया साथ मिलकर कर रहे हैं।

आईईईई 5जी इनीशिएटिव, 5जी की प्रगति के लिए काम करती है जो भविष्य के बेतार नेटवर्क में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए है। रोड मैपिंग के इसके काम से लेकर शिक्षा और मानकीकरण के प्रयासों तक आईईईई 5जी कई अहम प्रयासों की पेशकश करती है जिससे कनेक्ट किया जा सकता है। आईईईई 5जी को इन चैनल्स पर देखिए :

ट्विटर: https://twitter.com/5GIEEE; @5GIEEE
लिंक्ड इन: https://www.linkedin.com/groups/8560944
कोलैब्राटेक™: https://ieee-collabratec.ieee.org/app/community/76/activities
फेसबुक: https://www.facebook.com/ieee5g/

आईईईई के बारे में

आईईईई दुनिया का सबसे बड़ा तकनीकी पेशेवर संगठन है जो मानवता के लाभ के लिए तकनीक की प्रगति के लिए समर्पित है। अपने बेहद उल्लिखित प्रकाशनों, कांफ्रेंसों, टेक्नालॉजी मानकों और पेशेवरों तथा शैक्षिक गतिविधियों के जरिए आईईईई कई तरह के क्षेत्रों में एक भरोसेमंद नाम है। इनमें एयरोस्पेस सिस्टम, कंप्यूटर्स और दूरसंचार से लेकर बायोमेडिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रीक पावर और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल है। ज्यादा जानकारी के लिए http://www.ieee.org.

स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170306006254/en/
 
संपर्क :
आईईईई के लिए इंटरप्रोज
रिनी अयर, +1 630-587-6476
renee.ayer@interprosepr.com
या
आईईईई
हैरोल्ड टेप्पर, सीनियर प्रोग्राम डायरेक्टर -- फ्यूचर डायरेक्शंस
+1 732-465-6671
h.tepper@ieee.org

United States, N.J., Piscataway

सदस्यता लें

IANS Photo
  Click here for :