2017-02-14
A | A- | A+    

Business Wire


लॉरस लैब्स ने सफल आईपीओ के बाद पहले तिमाही परिणाम में तीसरी तिमाही के दौरान मज़बूत विकास का प्रदर्शन किया

Laurus Labs Ltd. (1:03PM) 

Business Wire India
अनुसंधान और विकास आधारित भारत की अग्रणी फार्मास्यूटिकल कंपनी लॉरस लैब्स लिमिटेड (लॉरस), ने वित्त वर्ष 17 के नौ महीने और तीसरी तिमाही के नतीजों की घोषणा की है।

विव 17 के 9 महीनों के नतीजे : कुल राजस्व में 9.7% की वृद्धि हुई जो 13,179 मिलियन रुपए से बढ़कर 14,459 मिलियन रुपए हो गया ईबीआईटीडीए में 23.1% की वृद्धि हुई और यह 3,199 मिलियन रुपए हो गया झो 2,598 मिलियन रुपए था। पीएटी 40.5% बढ़कर 1,277 मिलियन रुपए हो गया जो 909 मिलियन रुपए था। आलोच्य अवधि के लिए ईपीएस (डायल्यूटेड) 12.9 प्रति शेयर रहा (सालाना आधार पर नहीं) वित्त वर्ष 17 की तीसरी तिमाही के नतीजे : कुल राजस्व में 12.3% की वृद्धि हुई और यह 5,054 मिलियन रुपए हो गया जो 4,501 मिलियन रुपए था। ईबीआईटीडीए में 9.4% की वृद्धि हुई और यह 1,115 मिलियन रुपए हो गया जो 1,019 मिलियन रुपए था। कर के बाद लाभ में 17.5% की वृद्धि हुई और यह 72 मिलियन रुपए हो गया जो 402 मिलियन रुपए था। आलोच्य अवधि के लिए ईपीएस (डायल्यूटेड) 4.7 रुपए प्रति शेयर रहा (सालाना आधार पर नहीं)। कारोबारी खासियतें वित्त वर्ष 17 के नौ महीने : आईपीओ से प्राप्त धनराशि से 2,263 मिलियन के दीर्घ अवधि के कर्ज का समय पूर्व भुगतान किया गया। 585 मिलियन रुपए सामान्य कॉरपोरेट उद्देश्य से खर्च किए गए। और यह 150 मिलियन के आईपीओ खर्च पूरे करने के बाद किया गया। शुरू के नौ महीनों के लिए कैपेक्स निवेश 2,584 मिलियन रुपये रहा। आरएंडडी ऑपेक्स निवेश 773 मिलियन रुपए और अप्रैल - दिसंबर 2016 की अवधि में 5.3% प्रतिशत की वृद्धि हुई। लॉरस के साथ साझेदारी में नैटको ने नेपाल में वेलपतासिविर (हेप-सी) उत्पाद नेपाल में पेश किया है और आगमन पर भारत में पेश करने के लिए तैयार है। दिसंबर 2016 की स्थिति में कंपनी ने 202 पेटेंट आवेदन दाखिल किए हैं और37 पेटेंट दिए गए हैं। हैदराबाद में आरएंडडी सेंटर का विस्तार हुआ है। आज की तारीख तक दो एएनडीए और इसके साथ 4 प्रोडक्ट वैलीडेशन पूरे हो चुके हैं। 5 बिलियन टैबलेट की क्षमता का विस्तार मार्च 17 तक हो जाने की उम्मीद है। मार्च 2017 में यूनिट 2 के लिए अमेरिकी एफडीए और विश्व स्वास्थ्य संगठन का निरीक्षण निर्धारित है। एफडीएफ ओपेक्स निवेश 821 मिलियन रुपए है और इसमें 253 मिलियन रुपए शामिल है जो अप्रैल - दिसंबर 2016 के दौरान अनुसंधान और विकास से संबंधित है। यूनिट 5 (ऐसपेन के लिए समर्पित निर्माण इकाई) का उद्घाटन हो चुका है और यह नवंबर ‘16 से काम कर रहा है। लॉरस ने ऑनकोलॉजी एनसीई के लिए निर्माण और सप्लाई का करार किया है और यह क्लिनिकल फेज तथा कमर्शियल सप्लाई के लिए है। डॉ. सत्यनारायण चावा यूएस फार्माकोपिया बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (बीओटी) के सदस्यों में से एक के रूप में नियुक्त हुए। लॉरस लैब्स ने वर्ष 2015-16 के दौरान बल्क ड्रग्स की श्रेणी में / भारत के फार्मास्यूटिकल निर्यात में योगदान के लिए फार्माएक्सिल पेटेंट सिल्वर अवार्ड प्राप्त किया है।  हमारे बारे में ज्यादा जानकारी के लिए कृपया http://www.lauruslabs.com पर आइए।

स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170209006030/en/   संपर्क :
लॉरस लैब्स लिमिटेड
पवन कुमार एन, +91 40 3980 4380
mediarelations@lauruslabs.com

India, Hyderabad, Telangana

सदस्यता लें

IANS Photo
  Click here for :