2017-01-06
A | A- | A+    

Business Wire


एचसीएल ग्रांट 2017 के लिए फाइनलिस्ट घोषित

HCL Technologies Ltd (12:00PM) 

Business Wire India
एचसीएल ग्रांट (HCL Grant) ने अपने दूसरे एडिशन के लिए नौ एनजीओ (गैर सरकारी संगठन) का चुनाव फाइनलिस्ट के रूप में किया है। ये एनजीओ तीन श्रेणियों में से प्रत्येक के लिए चुने गए हैं - स्वास्थ्य, पर्यावरण और शिक्षा। एचसीएल ग्रांट एचसीएल फाउंडेशन की अपने किस्म की प्रथम पहल है जो ऐसे गैर सरकारी संगठनों की पहचान कहती है जो ग्राम विकास के क्षेत्र में एक स्वतंत्र, मजबूत और लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत उल्लेखनीय काम कर रहे हैं। इस साल के लिए ग्रांट 15 करोड़ रुपए तक है जो हरेक श्रेणी में बराबर यानी पांच करोड़ होगा।  

यह एचसीएल ग्रांट का दूसरा संस्करण है और इसे भारत के तकरीबन सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के गैर सरकारी संगठनों का अच्छा समर्थन मिला है। ग्रांट के लिए सभी तीन श्रेणियों में 3000 से ज़्यादा प्रविष्टियां आई हैं।   एचसीएल ग्रांट के लिए नौ फाइनलिस्ट एनजीओ
 
  श्रेणी- 1 : स्वास्थ्य
  चाइल्ड इन नीड इंस्टीट्यूट : पश्चिम बंगाल करुणा ट्रस्ट : कर्नाटक तमिलनाडु नेटवर्क ऑफ पॉजिटिव पीपुल :तमिलनाडु से  
  श्रेणी - 2: शिक्षा
  मेलजोल : महाराष्ट्र ब्रेक थ्रू : हरियाणा उर्मुल सेतु संस्थान : राजस्थान  
  श्रेणी - 3: पर्यावरण
  वाइल्डलाफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया : नई दिल्ली फाउंडेशन फॉर इकोलॉजिकल सिक्यूरिटी :गुजरात डेवलपमेंट रिसर्च कम्युनिकेशन एंड सर्विसेज सेंटर: पश्चिम बंगाल
एचसीएल ग्रांट के पास एक मजबूत और बहुस्तरीय मूल्यांकन प्रक्रिया है जो तकरीबन सभी आवेदनों की अच्छी तरह जांच करने से संबंधित है। पहली स्क्रीनिंग में कुल 616 एनजीओ चुने गए और इनमें से 48 को जमीनी जांच के लिए चुना गया। इसके तहत विशेषज्ञों की एक टीम प्रोजेक्ट की जगहों पर गए तथा इनके द्वारा जमीन पर किए जा रहे कामों का मूल्यांकन किया।

जमीनी स्तर पर हुई जांच के बाद मिली रिपोर्ट तथा प्रोफाइन के मूल्यांकन के आधार पर 32 एनजीओ थेमैटिक सब ज्यूरी के समक्ष प्रस्तुत किए गए। पहले से डिजाइन की गई प्रक्रिया के अनुसार 9 एनजीओ की पहचान अब अंतिम निर्णायकों के मूल्यांकन के लिए की गई है। 

तीन सर्वश्रेष्ठ एनजीओ का चुनाव विशिष्ट निर्णायकों का एक पैनल करेगी। इसमें निम्नलिखित शामिल होगे:

सुश्री रोबिन अबराम्स – पाम कंप्यूटिंग की पूर्व प्रेसिडेंट और एचसीएल टेक्नालॉजिज के बोर्ड में सबसे ज़्यादा समय तक रहने वाली सदस्य।

डॉ. इशर जज अहलूवालिया - अग्रणी अर्थशास्त्री और चेयरपर्सन, बोर्ड ऑफ गवरनर्स, दि इंडियन कौंसिल फॉर रिसर्च
 
सुश्री पल्लवी श्रॉफ - मशूहूर विधि सलाहकार, शर्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी
 
श्री बीएस बासवान - पूर्व निदेशक, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पबलिक एडमिसट्रेशन और पूर्व मानव संसाधन विकास सचिव

श्री रिचर्ड लैरीविरे - प्रेसिडेंट, फील्ड म्युजियम, शिकागो और ओरेगॉन विश्वविद्यालय के पूर्व प्रेसिडेंट। 
 
डॉ. जॉन ई केली – सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, कॉग्निटिव सोल्यूशंस एंड रिसर्च, आईबीएम कॉरपोरेशन
 
श्री शिव नादर – संस्थापक और अध्यक्ष, एचसीएल और शिव नादर फाउंडेशन

सुश्री निधि पुणधीर, निदेशक सीएसआर और लीड - एचसीएल फाउंडेशन, “एचसीएल ग्रांट ने इस साल नई उंचाइयां छुई हैं और दो नई श्रेणियां शामिल किए जाने से आने वाली प्रतिक्रिया काफी बढ़ गई है। हमें देश के सभी हिस्सों से 3000 से ज़्यादा प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं और इनमें देश के सबसे दूर-दराज की जगहें भी हैं। विकास के क्षेत्र में बेजोड काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों की इतनी बड़ी संख्या में से प्रत्येक क्षेणी में तीन फाइनलिस्ट का चुनाव करना निर्णायकमंडल के सदस्यों के लिए एक समृद्ध करने वाला पर चुनौतीपूर्ण अनुभव रहा है।”

चुनाव की प्रक्रिया को अच्छी तरह संपन्न करने के लिए एचसीएल फाउंडेशन ने अग्रणी ऐश्योरेंस, टैक्स और सलाहकार फर्म ग्रैन्ट थॉर्नटन और स्वतंत्र विशेषज्ञों की फर्म के साथ साझेदारी की है।

अतिरिक्त जानकारी के लिए कृपया www.hcltech.com/HCL-Grant  पर आइए।

ज़्यादा जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें :
 
कुणाल टकलकर / अनीता शर्मा
कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस
Kunal.takalkar@hcl.com /anita.sharma@hcl.com
+91 120 43828280
 
अजय दवेसर
वीपी और ग्लोबल प्रमुख - कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस
Ajay.davessar@hcl.com
+91 120 43828280

India, Uttar Pradesh, Noida