2017-01-03
A | A- | A+    

Business Wire


मैसिमो ने भारत के लिए निर्मित उन्नत निगरानी टेकनालॉजी की पेशकश कर भारत के प्रति अपनी कटिबद्धता की पुनर्पष्टि की

Masimo (11:34AM) 

Business Wire India

मैसिमो (Masimo) (नैसडैक: एमएएसआई) ने भारत में रैड-97 पल्स-सीओ ऑक्सीमीटर (Rad-97™ Pulse-CO Oximeter®*) तथा अगली पीढ़ी के सेडलाइन (SedLine®*) ब्रेन फंक्शन मोनिटरिंग की उपलब्धता का एलान किया। यह घोषणा बैंगलोर में यहां के अस्पतालों के सीईओ के राउंडटेबल में जोय किआनी ने की जो मैसिमो के संस्थापक और सीईओ हैं।
 
इस मौके पर मैसिमो के संस्थापक और सीईओ जोय किआनी ने कहा, “भारतीय हेल्थकेयर क्षेत्र ऐसी टेक्नालॉजी की आवश्यकता महसूस करता है जो क्लिनिशयन्स को पहली ही बार में सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल करने में सहायता करे। मैसिमो की नॉन इनवेसिव पेशेंट मोनिटरिंग (निगरानी) टेक्नालॉजी नवीनताएं ऐसी क्षमताओं की पेशकश करती हैं जो पहले कभी संभव नहीं रही।बड़ी आबादी और बेहतर गुणवत्ता वाले जीवन के साथ सुरक्षित, उच्च गुणवत्ता वाले हेल्थकेयर की बढ़ती मांग के मद्देनजर भारत मैसिमो के लिए फोकस बाजार बना हुआ है। हम भारत में निवेश जारी रखेंगे और अपनी टेक्नालॉजी तथा उत्पादों को जहां तक संभव हो पहुंच योग्य बनाने की कोशिश करेंगे जैसा नए रैड-97 तथा अगली पीढ़ी के सेडलाइन से स्पष्ट है।”
 
भारत के लिए मैसिनो के कंट्री मैनेजर भरत मोनटेइरो ने कहा, “मैसिमो भारत में मरीजों की देखभाल के लिहाज से जो सर्वसश्रेष्ठ वही करने के लिए प्रतिबद्ध है। अग्रणी भारतीय अस्पतालों के साथ मिलकर काम करने के दौरान हमलोगों ने मरीज की सुरक्षा के प्रति बढ़ी हुई जागरूकता तथा प्रतिबद्धता देखी है। देश भर में चिकित्सा मुहैया कराने वाले उन्नत टेक्नालॉजी और निगरानी सेवाओं जैसे, रैड-97 तथा अगली पीढ़ी के सेडलाइन को अपनाने के लिए उत्सुक हैं। इनके बारे में हम उम्मीद करते हैं कि ये कम लागत में बेहतर हेल्थकेयर मुहैया कराएंगे।”
 
राउंडटेबल में भाग लेने वाले अस्पतालों में से एक, नारायणा हेल्थ हॉस्पीटल्स के प्रबंध निदेशक और ग्रुप सीईओ डॉ. आशुतोष रघुवंशी ने कहा, “हम हमेशा  कोशिश करते हैं कि अपने अस्पतालों में सुविधाएं बेहतर करें ताकि मरीजों की देखभाल तथा उपचार के बेहतर नतीजे सुनिश्चित हों। नए पेश किए गए रैड-97 से हम मैसिमो सेट पल्स ऑक्सीमेट्री (Masimo SET® pulse oximetry) का उपयोग देखभाल के ज्यादा क्षेत्रों में कर सकेंगे। इसमें वार्ड मोनिटरिंग शामिल है जो बेहतर निगरानी संभव करने में सहायता करेगी। नारायणा हेल्थ में भारत में सबसे ज्यादा संख्या में कार्डियैक सर्जरी होती है और मेरा मानना है कि नॉन इनवैसिव हिमोग्लोबिन (एसपीएचबी- SpHb) से जटिल कार्डियैक सर्जरी को काफी मूल्य मिलेगा। हमें अवांछित ट्रांसफ्यूजन और संक्रमण का जोखिम कम करने में सहायता मिलेगी।”
 
रैड-97 में मेजर थ्रू मोशन और लो परफ्यूजन सेट (Low Perfusion™ SET®) पल्स ऑक्सीमेट्री शामिल है और अध्ययन से पता चला है कि यह क्लिनिशियन्स को नियोनेट्स1 में प्रीमैच्योरिटी की गंभीर रेटिनोपैथी को कम करने में सहायता करता है, नवजात शिशुओं2 में सीसीएचडी स्क्रीनिंग बेहतर करने में सहायता करता है और सर्जरी के बाद मरीजों को रखने वाले वार्ड में लगातार निगरानी के लिए उपयोग किया जाए तो द्रुत प्रतिक्रिया सक्रियता और  लागत कम करता है।3,4,5 रैड-97 उपग्रेड करने योग्य उसी सेट (SET™) टेक्नालॉजी की पेशकश रैडिकल-7 पल्स सीओ-ऑक्सीमीटर (Radical-7® Pulse CO-Oximeter) की पेशकश एक विविधतापूर्ण, स्टैंडअलोन मोनिटर कंफीगुरेशन में करता है। रैड 97 के उपयोग से क्लिनिशियन चिकित्सक टोटल हिमोग्लोबिन (SpHb®) और पीवीआई (PVi®) जैसे रेनबो (rainbow®) मापन कर सकते हैं। एसपीएचबी (SpHb) के अध्ययन से पता चला है कि यह अनावश्यक ब्लड ट्रांसफ्यूजन† 6,7 कम करता है औप जब पीवीआई के साथ उपयोग में लाया जाए तो 30 और 90 दिन की नश्वरता9 मिलती है और तथा अस्पताल में रहने की अवधि कम होती है8। रेनबो (rainbow®) मिथेमोग्लोबिन (SpMet®), अकॉस्टिक रेसपायरेशन दर (RRa®), कार्बोक्सीहिमोग्लोबिन (SpCO®), ऑक्सी रीवर्स इंडेक्स™* (ORi™) और ऑक्सीजन कंटेंट (SpOC™) की भी माप कर सकता है। रैड-97 में एकीकृत कैमरा भी है* जो पेशेंट सेफ्टीनेट (SafetyNet™‡) के जरिए क्लिनिशियन की टेली उपस्थिति और उच्च रिजोल्यूशन वाले 1080पी एचडी कलर डिसप्ले और उपयोगकर्ता अनुकूल मल्टी टच नैविगेशन के साथ है और यह वैसा ही है जैसा रूट (Root®) और रैडिकल-7 में है। इससे क्लिनिशियन्स उपकरण को आसानी से अपनी निगरानी आवश्यकता के अनुकूल बना सकते हैं।
 
सेडलाइन में एक साथ चार ईईजी लीड्स हैं। इससे मस्तिष्क के दोनों हिस्सों का निरंतर आकलन संभव होता है, इसके साथ-साथ डेनसिटी स्पेकट्रल ऐरे (डीएसए) है। यह व्याख्या के लिहाज से आसान उच्च रिजोल्यूशन वाला डिसप्ले है जो द्वि गोलार्ध की गतिविधियों का उच्च रिजोल्यूशन वाला ऐसा डिसप्ले देता है जिसकी व्याख्या आसान है। अगली पीढ़ी की सेडलाइन मैसिमो द्वारा प्रोसेस्ड ईईजी प्राचलों, पेशेंट स्टेट इंडेक्स (पीएसआई) को निखारती है ताकि इसपर इलेक्ट्रोमायोग्राफिक (ईएमजी) हस्तक्षेप की आशंका कम रहे और निम्न शक्ति वाले ईईडी के मामलों का प्रदर्शन बेहतर हो।
 
@MasimoInnovates | #मैसिमो

 
*रैड-97, कैमरे की खासियतें, अगली पीढ़ी की सेडलाइन और ओआरआई (ORi) के पास 510(k) क्लियरेंस नहीं है और ये अमेरिका में उपलब्ध नहीं हैं।
 
†रेड ब्लड सेल के ट्रांसफ्यूजन केसंबंध में चिकित्सीय निर्णय क्लिनिशियन के निर्णय पर आधारित होना चाहिए। इसमें अन्य चीजों के अलावा मरीज की स्थिति, लगातारा एपीएचबी (SpHb) की निगरानी, खून के नमूनों के आधार पर प्रयोगशाला के डायगनोस्टिक नतीजे शामिल हैं।
 
‡Tट्रेडमार्क सेफ्टीनेट (SafetyNet) का उपयोग यूनिवर्सिटी हेल्थसिस्टम कंसोर्टियम के लाइसेंस के तहत है।
 
संदर्भ
 

कास्तिलो ए और अन्य। प्रीवेन्शन ऑफ़ रेटिनोपैथी ऑफ़ प्रिमेच्योरिटी इन प्रीटर्म इन्फ़ंट्स थ्रू चेंजज़ इन क्लिनिकल प्रैक्टिस एण्ड SpO2 टेक्नोलोजी. आक्टा पाएडियात्र. 2011 फरवरी; 100(2):188-92.
दे-वाह्ल ग्रानेली ए और अन्य। इम्पॅक्ट ऑफ़ पल्स ओक्सिमेत्री स्क्रीनिन्ग ऑन दि डिटेक्शन ऑफ़ डक्ट डिपेंडंट कॉनजेनिटल हार्ट डिजीड : अ स्वीडिश प्रोस्पेक्टिव स्क्रीनिन्ग स्टडी इन 39,821 न्यूबॉर्न्स. बीएमजे। 2009;338.
तएन्ज़ेर अह और अन्य। इम्पैक्ट ऑफ़ पल्स ओक्सिमेट्री सर्वीलान्स ओन रेस्कु ईवंट्स एण्द इंटेन्सिव केअर युनिट ट्रान्स्फ़र्ज़: ए बिफ़ोर-एण्द-आफ्टर कॉन्कररेन्स स्टडी. एनेसथेसियोलॉजी। 2010; 112(2):282-287.
तएन्ज़ेर अह और अन्य। पोस्टऑपरेटिव मोनिटरिंग - दि डार्टमाउथ एक्स्पीरियन्स. एनेथेसिया पेशेंट सेफ़्टी फ़ाउन्डेशन न्यूजलेटर. स्प्रिंग-समर 2012.
मैकगर्थ  एसपी और अन्य। सर्वीलान्स मोनिटरिंग मैनेजमेन्ट फ़ॉर जनरल केयर यूनिट्स : स्ट्रेटजी, डिजाइन, एण्ड इम्प्लीमेन्टेशन। दि ज्वाइंट कमिशन जरनल ऑन क़्वालिटी एण्ड पेशेन्ट सेफ़्टी। 2016 जुलाई; 42(7):293-302.
एहरेनफेल्ड जेएम और अन्य। कांटीनुअस नॉन-इन्वैसिव हिमोग्लोबिन मोनिटरिंग ड्यूरिंग ऑर्थोपीडिया सर्जरी : अ रैनडोमाइज्ड ट्रायल। जे ब्लड डिसऑर्डर्स ट्रांसफर। 2014. 5:9. 2.
अवाडा डब्ल्यूएन और अन्य। कांटीनुअस एण्ड नॉन इन्वैसिव हिमोग्लोबिन मोनिटरिंग रिड्यूसेज रेड ब्लड सेल ट्रांसफ्यूजन ड्यूरिंग न्यूरोसर्जरी: ए प्रोस्पेक्टिव कोहोर्ट स्टडी. जे क्लीन मोनित कम्पुत. 2015 फरवरी 4.
थीले आरएच और अन्य। स्टैनडरडाइजेशन ऑफ़ केअर: इम्पैक्ट ऑफ़ एन एनहांस्ड रीकवरी प्रोटोकोल ऑन लेन्थ ऑफ़ स्टे, कांपलीकेशंस, एण्ड डायरेक्ट कॉस्ट्स आफ्टर कोलोरेक्टल सर्जरी। जेएसीएस (2015). डीओआई : 10.1016/j.jamcollsurg.2014.12.042.
नाथन एन और अन्य। इम्पैक्ट ऑफ़ कांटीनुस पेरिओपरेटिव एसपीएचबी मोनिटरिंग। प्रोसीडिंग्स फ्रॉम दि 2016 एएसए एनुअल मीटिंग, शिकागो. ऐब्सट्रैक्ट #ए1103.     

         
मैसिमो के बारे में
 
मैसिमो (नैसडैक: एमएएसआई) अभिनव नॉन इनवैसिव मोनिटरिंग टेक्नालॉजी के क्षेत्र में दुनिया भर में अग्रणी है। हमारा मिशन मरीजों को मिलने वाले परिणाम बेहतर करना और देखभाल का खर्च कम करना है। इसके लिए नॉन इनवेसिव मोनिटरिंग को नई जगहों और इस्तेमाल में ले जाना है। कंपनी ने 1995 में मैसिमो सेट मेजर थ्रू मोशन एंड लो परफ्यूजन पल्स ऑक्सीमेट्री (Masimo SET® Measure-through Motion and Low Perfusion™ pulse oximetry), पेश किया जिसे कई सारे अध्ययनों में दिखाया गया है ताकि गलत चेतावनी के मामलों में अच्छी-खासी कमी आए और सही अलार्म को ठीक से मोनिटर किया जा सके। अनुमान है कि मैसिमो (Masimo SET®) सेट का उपयोग दुनिया भर के अग्रणी अस्पतालों और अन्य हेल्थकेयर सेटिंग में 100 मिलियन मरीजों से ज्यादा में किया जाता है। 2005 में मैसिमो ने रेनबो पल्स को-ऑक्सीमेट्री टेक्नालॉजी पेश की (rainbow® Pulse CO-Oximetry technology)। इससे खून के कांस्टीट्यूएंट्स की नॉन इनवेसिव और निरंतर निगरानी की जा सकती है जिन्हें पूर्व में सिर्फ इनवेसिवली किया जा सकता है। इनमें टोटल हिमोग्लोबिन (SpHb®), ऑक्सीजन कंटेंट (SpOC™), कारबॉक्सीहिमोग्लोबिन (SpCO®), मिथेमोग्लोबिन (SpMet®), और अभी हाल में, प्लेथ वैरीएबिलिटी इंडेक्स (PVi®) और ऑक्सीजन रिजर्व इंडेक्स (ORi™), के साथ-साथ SpO2, पल्स रेट और परफ्यूजन इंडेक्स (Pi) शामिल है। 2014 में मैसिमो ने रूट (Root®) पेश किया। यह एक सहजअनुभूति वाला पेशेंट मोनिटरिंग और कनेक्टिविटी प्लैटफॉर्म है, मैसिमो ओपन कनेक्ट (Masimo Open Connect™) या (MOC-9™) इंटरफेस (अंतरापृष्ठ) के रूप में। मैसिमो, एमहेल्थ Masimo (mHealth)के क्षेत्र में भी सक्रिय अग्रणी भूमिका निभा रहा है और इसके लिए रेडियस-7 (Radius-7™ ) जैसे उत्पाद हैं जो पहनने योग्य पेशेंट मोनिटर और माइटीसैट (MightySat™) फिंगरटिप पल्स ऑक्सीमटर हैं। मैसिमो और इसके उत्पादों के बारे में अतिरिक्त सूचना www.masimo.com. से प्राप्त की जा सकती है। सभी प्रकाशित चिकित्सीय अध्ययन http://www.masimo.com/cpub/clinical-evidence.htm. पर प्राप्त किए जा सकते हैं।
 
भविष्य-उन्मुख बयान
 
इस प्रेस विज्ञप्ति में 1995 के प्राइवेट सिक्यूरिटीज लिटिगेशन रीफॉर्म ऐक्ट के संबंध में जैसा 1933 के सिक्यूरिटीज ऐक्ट की धारा 27ए तथा 1934 की सिक्यूरिटीज एक्सचेंज ऐक्ट की धारा 21ई  में पारिभाषित है, भविष्य उन्मुख बयान हैं। भविष्य उन्मुख इन बयानों में अन्य चीजों के अलावा मैसिमो रैड-97 पल्स सीओ-ऑक्सीमीटर (Masimo Rad-97™ Pulse CO-Oximeter®) और अगली पीढ़ी की सेडलाइन(SedLine® ) ब्रेन फंक्शन मोनिटरिंग के संभावित रूप से प्रभावी होने से संबंधित बयान भी हैं। भविष्य उन्मुख ये बयान भविष्य की घटनाओं के संबंध में मौजूदा अपेक्षाओं पर आधारित हैं कि ये हमें प्रभावित करेंगे और जोखिम से भरे हैं। इस संबंध में पूर्वानुमान मुश्किल है और इनमें से कई हमारे नियंत्रण में नहीं हैं तथा हमारे वास्तविक परिणाम को भविष्य उन्मुख बयान में जैसा बताया गया है, से काफी अलग और प्रतिकूल बना सकते हैं। ऐसा भिन्न जोखिम घटकों के कारण संभव है इनमें निम्नलिखित शामिल हैं पर इतने ही नहीं हैं। प्रमुख घटक इस प्रकार हैं : चिकित्सीय परिणामों को दोहराए जाने योग्य मानने से संबंधित जोखिम; मैसिमो के अनूठे नॉन इनवैसिव मेजरमेंट टेक्नालॉजिज पर हमारे इस विश्वास से संबंधित जोखिम, इसमें मैसिमो रैड-97 और सेडलाइन शामिल है; सकारात्मक चिकित्सीय नतीजों और मरीज की सुरक्षा में योगदान का विश्वास; हमारे इस विश्वास से संबंधित जोखिम कि मैसिमो नॉनइनवेसिव मेडिकल ब्रेकथ्रू तुलनायोग्य शुद्धता और अनूठे लाभ मुहैया कराते हैं; इसके अलावा अन्य घटक जिनकी चर्चा सिक्यूरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन ("एसईसी") में दाखिल हमारी सबसे हाल की रिपोर्ट में की गई है "जोखिम घटक " वाले हिस्से में की गई है। इसे एसईसी के वेबसाइट www.sec.gov से निशुल्क हासिल किया जा सकता है। वैसे तो हमारा मानना है कि हमारे भविष्य उन्मुख बयानों से जो अपेक्षाएं प्रदर्शित होती हैं वे वाजिब हैं, पर हम नहीं जानते कि हमारी अपेक्षाएं सही साबित होंगी अथवा नहीं। इस प्रेस विज्ञप्ति में शामिल तमाम भविष्य उन्मुख बयान अपनी संपूर्णता में स्पष्ट रूप से योग्य हैं और उनके साथ चेतावनी का संदेश भी है। आपको सतर्क किया जाता है इन भविष्य उन्मुख बयानों पर गैरवाजिब भरोसा न करें। ये सिर्फ की स्थिति की बात करते हैं। हम इन बयानों को अद्यतन, संशोधित या स्पष्ट करने के साथ-साथ एसईसी में दाखिल अपनी हाल की रिपोर्ट में उल्लिखित "Risk Factors" को संशोधित करने की कोई जिम्मेदारी नहीं लेते हैं। भले ही ऐसा नई सूचना, भविष्य की घटनाओं या अन्य कारण से आवश्यक हो। इसमें वह सब शामिल नहीं है जो लागू सिक्यूरिटीज कानून के तहत आवश्यक हो।
 
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170102005089/en
 
संपर्क:
मैसिमो इन इंडिया
ऐडफैक्टर्स पीआर
अजित पई / अमृत मूर्ति
+91 96633 94732
ajit.pai@adfactorspr.com / amrutha.moorthy@adfactorspr.com
या
मैसिमो
इवन लैम्ब
949-396-3376
elamb@masimo.com

India, Karnataka, Bangalore