फीचर


जल्लीकट्टू पर क्यों हैं भावनाएं उफान पर? (19:33) IANS Photo Service
सलीम डेविड
तमिलनाडु में जल्लीकट्टू की परंपरा हजारों सालों से है। लेकिन इस पर हालिया प्रतिबंध से जनभावनाएं उफान पर हैं और विरोध-प्रदर्शनों का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा।

बुंदेलखंड : 'लाल सलाम' की सियासी जमीन पर 'जय भीम' का कब्जा (08:17)
आर. जयन
बांदा, 20 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड की सियासी जमीन पर तीन दशक तक 'लाल सलाम' यानी वामपंथ का डंका बजता रहा है, इस दौरान यहां बारह विधायक और दो सांसद चुने गए। लेकिन, नब्बे के दशक के बाद बसपा के 'जय भीम' ने वामपंथियों का यह मजबूत किला ढहा दिया।

बुंदेलखंड : माया को अपनी ही कौम पर भरोसा! (20:05)
आर. जयन
बांदा, 19 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड की 19 में से 5 अनुसूचित जातियों के लिए सुरक्षित विधानसभा सीटों पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने 'अपनी ही कौम' से ताल्लुक रखने वाले सभी उम्मीदवार उतारे हैं, इससे अन्य अनुसूचित जातियों में काफी रोष है।

प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता में 5 वर्ष बाद हल्का सुधार (18:46)
प्राची साल्वे/श्रेया शाह
देश में प्राथमिक शिक्षा में सीखने की क्षमता में पिछले पांच वर्षो से लगातार आई गिरावट के बाद आए नए सर्वेक्षण में प्राथमिक स्कूलों में पठन क्षमता और सामान्य गणित को हल करने की क्षमता के स्तर में सुधार देखने को मिला है।

बर्फबारी ने फिर से लौटा दी 'जमीन की जन्नत' की रौनक (18:38) IANS Photo Service
शेख कय्यूम
श्रीनगर, 19 जनवरी (आईएएनएस)| हर तरफ बर्फ, नुकीली बर्फीली चट्टानें, नीचे उड़ते हंस और ठंड को दूर करने के लिए एक साथ बैठे परिवार; कश्मीर में इस बार वह सभी कुछ है जो यहां शरद ऋतु को शानदार बनाता है।

उप्र में ऊंट किस करवट बैठेगा? सभी दल जातिगत समीकरण में उलझे! (17:49)
-ऋतुपर्ण दवे
जीत अखिलेश की, हार मुलायम की या दोनों की जीत? यह वक्त इसके मंथन का नहीं क्योंकि चुनाव सिर पर हैं। लेकिन सवाल एक ही है परिवारवाद की छांव तले, पले, बढ़े और राजनीति में स्थापित हुए अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश में राजनीति की किसी नई धारा को बढ़ाएंगे या फिर, यादववाद के कुनबे का नया वटवृक्ष फैलाएंगे?

बेघरों को बसाकर किया मां का सपना पूरा (फोटो सहित) (With Images) (10:39)
रविशंकर शर्मा/नीरज तिवारी
रायपुर/महासमुंद, 18 जनवरी (आईएएनएस/वीएनएस)। छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में छह बेटों ने मां का सपना पूरा करने के लिए संपत्ति की परवाह न करते हुए बेघर आदिवासियों के लिए कॉलोनी बसा दी। महासमुंद के चोपड़ा परिवार में मां छोटीबाई चोपड़ा ने कहा था, "मेरी मृत्यु के बाद मेरे जेवर को आपस में मत बांटना, इसका उपयोग उन लोगों के हित में करना, जिनकी कोई नहीं सुन रहा हो।"

बुंदेलखंड : चुनाव तक घरों में दुबके रहेंगे 'असलहाधारी' (18:41)
आर. जयन
बांदा, 17 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का बिगुल बजने के बाद निर्वाचन आयोग के निर्देश पर दस्यु प्रभावित क्षेत्र बांदा और चित्रकूट जिले के लाइसेंसी हथियारों को जमा कराए जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जमा किए गए हथियार चुनाव संपन्न होने के बाद ही लाइसेंस धारकों को वापस मिलेंगे, तब तक अपराधियों के भय से 'असलहाधारी' अपने घरों में दुबके रहेंगे।

रांगेय राघव यानी हिंदी के शेक्सपीयर (जन्मदिन : 17 जनवरी) (10:04)
वेद प्रकाश
आलौकिक प्रतिभा के धनी तमिल भाषी, लेकिन हिंदी साहित्य के धरोहर रांगेय राघव के कविता संग्रह 'मेधावी' से जो परिचित नहीं हैं, उन्हें ये पंक्तियां जरूर यह बता देंगी कि रांगेय राघव किस मिजाज के कवि थे :

डंपर, व्यापमं की राह पर हवाला कांड! (13:59)
संदीप पौराणिक
भोपाल, 15 जनवरी (आईएएनएस)| मध्यप्रदेश के कटनी जिले के हवाला कारोबार के खुलासे ने सियासत में भूचाल ला दिया है। यह ठीक वैसे ही सुर्खियां बन रहा है, जैसा कभी डंपर कांड, व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) कांड बने थे और कई बड़े लोगों पर इन मामलों की आंच आई थी। लेकिन सजा उन लोगों को नहीं मिली जिन पर राजनीतिक हमले हुए, हवाला कांड तो शुरुआत में ही उस दिशा में बढ़ता नजर आने लगा है, जहां डंपर और व्यापमं पहुंचे।

उप्र चुनाव : कांग्रेस सीटों के अर्धशतक से 6 बार चूकी (11:08)
विद्या शंकर राय
लखनऊ, 15 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) से गठबंधन की आस लगाए बैठी कांग्रेस देश के इस सबसे बड़े सियासी राज्य में अपने लिए 'संजीवनी' की तलाश कर रही है। पिछले छह विधानसभा चुनावों पर नजर डालें तो कांग्रेस सीटों का अर्धशतक भी नहीं लगा पाई। अब वर्ष 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव में वह '27 साल, उप्र बेहाल' नारे के साथ उप्र में सियासी बनवास खत्म करने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है।

नीतीश के 'गुडविल' को पंजाब में भुनाने की कवायद (10:13)
मनोज पाठक
पटना, 15 जनवरी (आईएएनएस)| बिहार में गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाश पर्व के सफल आयोजन न केवल बिहार सरकार की सफलता का प्रतीक बना, बल्कि इस सफल आयोजन ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विपक्ष को भी तारीफ करने को विवश किया।

दिल्ली : सबसे धनी राज्य में शिक्षकों के आधे पद खाली (09:51)
अपर्णा कालरा
नई दिल्ली, 15 जनवरी (आईएएनएस)| एक सरकारी स्कूल जिसे 59 शिक्षकों की जरूरत है, वहां केवल दो अस्थाई तौर पर नियुक्त किए गए शिक्षक हैं। यह कहानी किसी दूरदराज के पिछड़े ग्रामीण क्षेत्र की नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की है, जो प्रति व्यक्ति आय के मामले में देश का सबसे धनी राज्य है।

गांधीजी राष्ट्रपिता हैं! ये कैसी नासमझी (21:45)
ऋतुपर्ण दवे
शायद महात्मा गांधी को, परलोक में यकीन न हो कि उनका वो पुत्र जिसने शपथ ले रखी है संविधान रक्षा की, देश की एकता, अखंडता, अक्षुण्णता की, धर्मनिरपेक्षता और भाईचारे को बनाए रखने की, आज खादी पेटेंट की बात करेगा, भारतीय करेंसी से तस्वीर हटाए जाने की बात कहेगा।

बुंदेलखंड : अब तक 15 महिलाएं बन चुकीं विधायक (09:49)
आर. जयन
बांदा, 14 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड में अब तक हुए 15 विधानसभा चुनावों में 15 महिलाएं विधायक चुनी जा चुकी हैं। इनमें सबसे ज्यादा 11 दलित महिलाएं हैं और तीन पिछड़े और एक सामान्य वर्ग से ताल्लुक रखती हैं। कांग्रेस के टिकट पर बेनीबाई छह बार विधायक चुनी गईं।

'इंटेलेक्ट 2017' में बिजली के स्मार्ट प्रबंधन का होगा प्रदर्शन (08:57)
नई दिल्ली, 14 जनवरी (आईएएनएस)| ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में 23 से 25 जनवरी के बीच होने वाली 'इंटेलेक्ट 2017' में बिजली के स्मार्ट प्रबंधन का प्रदर्शन किया जाएगा। इसमें सोर्स से लेकर सॉकेट, उत्पादन से लेकर उपयोग, ट्रांसमिशन से लेकर डिस्ट्रीब्यूशन और स्मार्ट ग्रिड से आने वाली चुनौती पर चर्चा की जाएगी।

बिहार में 'चूड़ा-दही भोज' के बहाने सियासी मिठास का प्रयास (18:48)
मनोज पाठक
पटना, 13 जनवरी (आईएएनएस)| बिहार में कड़ाके की ठंड के बीच मकर संक्रांति के मौके पर राजनीतिक दलों ने 'चूड़ा-दही भोज' के बहाने सियासी माहौल में मिठास घोलने का प्रयास तेज कर दिया है। सत्ताधारी महागठबंधन में शामिल जनता दल (युनाइटेड) ने भोज में जहां विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं को आमंत्रित किया है, वहीं राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने भी भाजपा नेताओं को न्योता दिया है।

शिवराज सरकार को रास नहीं आते जनहितैषी अफसर! (19:54)
संदीप पौराणिक
भोपाल, 12 जनवरी (आईएएनएस)| मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार अपने को जनता का हमदर्द बताते का कोई भी मौका हाथ से जाने नहीं देती। मगर यह भी उतना ही सच है कि उसे जनहितैषी अफसर रास नहीं आते हैं, तभी तो ऐसे अफसरों पर सरकार की गाज गिरती है और नाइंसाफी के खिलाफ लोगों को बार-बार सड़कों पर उतरना पड़ता है।

सर्दियों में एड़ी को फटने से ऐसे बचाएं (17:02)
नई दिल्ली, 12 जनवरी (आईएएनएस)| सर्दियों के दौरान हम अपने चेहरे, हाथों और गर्दन को रूखेपन से बचाने के लिए लोशन लगाते हैं, लेकिन एड़ी पर लोशन लगाना भूल जाते हैं, जिससे एड़ियां फट जाती हैं, इसलिए अपने पैरों व एड़ी पर तेल से मसाज करें और ग्लिसरीन और गुलाब जल लगाएं।

नर्मदा नदी को 'आधुनिक पुरुरवा' की दरकार! (फोटो सहित) (With Images) (15:55)
संदीप पौराणिक
भोपाल, 10 जनवरी (आईएएनएस)| नर्मदा नदी का बहिर्गमन दृश्य और उसका कल-कल निनाद कभी रोमांचित कर दिया करता था, मगर अब जीवनदायनी इस नदी की धारा कई जगह थम रही है, तो पानी प्रदूषित हो रहा है। यह नदी फिर अपने पुराने स्वरूप में लौटे इसके लिए 'आधुनिक पुरुरवा' की दरकार महसूस की जा रही है।

राजनीति में धर्म का फंडा और चोखा धंधा (11:01)
प्रभुनाथ शुक्ल
राजनीति व्यापकता का बोध कराती है। जब हम इसकी बात करते हैं तो हमारे सामने देश, समाज, समूह और उसमें बिखरी तमाम संभावनाएं साफ दिखती हैं। यह दायित्व और कर्तव्य का बोध करता है। इसका सीधा संबंध लोक और गणतंत्र से जुड़ा है, लेकिन बदलते वक्त के साथ क्या राजनीति की भाषा और परिभाषा भी बदल गई है। उसका विस्तृत उद्देश्य क्या सिमट गया है।

उप्र चुनाव : सुरक्षित सीटों पर कभी न रहा किसी का एकाधिकार (16:40)
विद्या शंकर राय
लखनऊ , 9 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है। सभी राजनीतिक दल जाति विशेष के वोटरों में अपने पाले में करने के लिए तरह-तरह के प्रयास कर रहे हैं। दलित मतदाताओं को रिझाने के लिए एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'भीम' एप लॉन्च कर संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के नाम को भुनाने के प्रयास में दिख रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती खुद को दलितों की मसीहा साबित करने में जुटी हैं।

बुंदेलखंड : 'कर्ज' और 'मर्ज' बन न पाए चुनावी मुद्दा (20:34)
आर. जयन
बांदा, 8 जनवरी (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के हिस्से वाला बुंदेलखंड पिछले कई दशकों से महाराष्ट्र के विदर्भ जैसे हालात से गुजर रहा है। 'कर्ज' और 'मर्ज' के दबाव में हर साल कई किसान अपनी जान गंवा रहे हैं, लेकिन कोई भी राजनीतिक दल इसे चुनावी मुद्दा बनाने को तैयार नहीं दिख रहा है।

भारत 2020 का अक्षय ऊर्जा लक्ष्य चूक जाएगा? (09:18)
श्रेया शाह
पिछले साल अप्रैल में बिजली और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने दोहराया था कि भारत का 2020 तक 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा स्थापित करने का लक्ष्य है, जिसे पूरा कर लिया जाएगा। लेकिन इंडियास्पेंड का विश्लेषण दिखाता है कि कमजोर अवसंरचना और सस्ते वित्तीय सहायता के अभाव में सौर ऊर्जा में विस्तार करना चुनौतीपूर्ण है।

'विज्ञान में अव्वल देश दुनिया पर राज करेगा' (13:39)
साकेत सुमन
नई दिल्ली, 7 जनवरी (आईएएनएस)| देश की पिछली सरकारों ने विज्ञान व प्रौद्योगिकी को बेहद महत्व दिया है, जिसका परिणाम है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) लगातार कामयाबी की नई बुलंदियों को छू रहा है और वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि मौजूदा सरकार भी विज्ञान की अनदेखी नहीं करेगी।

विशेष

और भी है

सदस्यता लें

IANS Photo
  Click here for :